नवरात्रि कब है 2022 में। कब से शुरू हो रही है नवरात्रि और कब हो रही है खत्म।

Navratri 2022: नवरात्रि मतलब 9 रात्रि में 9 अलग अलग रूप में माताओं की पूजा की जाती है। नवरात्रि साल में 4 बार आते है माघ ,चैत्र ,आषाढ़ ,आश्विन मास। आश्विन मास के नवरात्री को शारदीय नवरात्री भी कहा जाता है। शारदीय नवरात्री 2 अप्रैल शनिवार 2022 को शुरू होकर 11 अप्रैल सोमवार 2022 शुक्रवार को समापन होगी। आईये जाने ये 4 माह के नवरात्रि कब शुरू और कब समापन है।

गुप्त नवरात्रि कब है 2022 (When is Gupt Navratri 2022 Date)

साल में दो बार नवरात्रि आते है जिसमें से एक है गुप्त नवरात्रि। इसकी सात्विक और तांत्रिक दोनों रूपों में पूजा की जाती है। यह माघ और आषाढ़ माह में मनाया जाता है और माँ दुर्गा की पूजा गुप्त तरीके से की जाती है अगर यह पूजा पूरे गुप्त तांत्रिक तरीके से ही सम्पन होती है। इस नवरात्री में कलश स्थापित करके सुबह और शाम को माँ दुर्गा की पूजा की जाती है। गुप्त नवरात्री में जितनी गोपनीय तरीके से पूजा की जाएगी उतनी सफलता मिलेगी। माघ और आषाढ़ की गुप्त नवरात्रि एक तरह ही मनाई जाती है। इस साल माघ माह में गुप्त नवरात्रि 02 फरवरी 2022 दिन बुधवार से शुरू और नवरात्रि 10 फरवरी 2022 दिन गुरुवार को समाप्त है और दूसरी गुप्त नवरात्री आषाढ़ मास में के शुक्ल पक्ष की 11 जुलाई से शुरू होगी और 18 जुलाई को समाप्त हो जाएगी।

माघ माह में गुप्त नवरात्रि शुभ मुहूर्त 

नवरात्रि शुरू 02 फरवरी 2022 दिन बुधवार
नवरात्रि समाप्त 10 फरवरी 2022 दिन गुरुवार
कलश स्थापना मुहूर्त- सुबह 08:34 से 09: 59 तक
अभिजीत मुहूर्त- दोपहर 12:13 से 12:58 तक

आषाढ़ मास में गुप्त नवरात्रि शुभ मुहूर्त

नवरात्रि शुरू 30th जून 2022 दिन गुरूवार
नवरात्रि समाप्त 8th जुलाई 2022 दिन शुक्रवार

चैत्र नवरात्रि कब है 2022 (When is Chaitra Navratri 2022 Date)

चैत्र नवरात्री (chaitra navratri 2022) 2 अप्रैल शनिवार 2022 को शुरू होकर 11 अप्रैल सोमवार 2022 शुक्रवार को समापन होगी।  नवरात्रि में 9 दिन तक का व्रत रखा जाता है और कलश की स्थापना की जाती हैं। इसे घटस्थापना भी कहा जाता है। कुछ लोग पहला व्रत और आखिरी व्रत रख कर नवमे दिन नवरात्रि में कन्या पूजन करके समापन करते है। कन्याओ को दुर्गा माता का रूप माना जाता है, इस लिए नवरात्रि में नवमी के दिन कन्या का पूजन किया जाता है।

navratri kab hai 2021 mein

चैत्र नवरात्रि का कैलेंडर (Chaitra Navratri Calendar 2022)

  • नवरात्रि की पहले दिन 2 अप्रैल शनिवार 2022 को मां शैलपुत्री की पूजा होगी।
  • नवरात्री के दूसरे दिन 3 अप्रैल रविवार 2022 को मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होगी।
  • नवरात्री के तीसरे दिन 5 अप्रैल मंगलवार 2022 को मां चंद्रघंटा पूजा व मां कुष्मांडा की पूजा होगी।
  • नवरात्री के चौथे दिन 6 अप्रैल बुधवार 2022 को मां स्कंदमाता की पूजा होगी।
  • नवरात्री के पांचवे दिन 7 अप्रैल गुरुवार 2022 को मां कात्यायनी जी की पूजा होगी।
  • नवरात्री के छठे दिन 8 अप्रैल शुक्रवार 2022 को मां कालरात्रि जी की पूजा होगी।
  • नवरात्री के सातवें दिन 9 अप्रैल शनिवार 2022 को मां महागौरी जी की पूजा होगी।
  • नवरात्री के आठवें दिन 10 अप्रैल रविवार 2022 को मां सिद्धिदात्री जी की पूजा होगी।
  • नवरात्री के नवमीं दिन 11 अप्रैल सोमवार 2022 को कन्या पूजन, दुर्गा विसर्जन/नवरात्रि व्रत का पारण किया जायेगा।

शारदीय नवरात्रि कब है 2022 ( When is Shardiya Navratri 2022 Date)

चैत्र नवरात्रि के बाद 4th नवरात्रि शारदीय नवरात्री होती है। सभी नवरात्रों की तरह ही शारदीय नवरात्रि भी मनाया जाता है। शारदीय नवरात्रि आश्विन मास की कृष्ण पक्ष 26 सितंबर से शुरू होकर 04 अक्टूबर 2022 को समाप्त होगी। 5 अक्टूबर 2022, बुधवार को दशहरा मनाया जायेगा।

शारदीय नवरात्रि का कैलेंडर (Chaitra Navratri Calendar 2022)

  • नवरात्रि की पहले दिन 26 सितम्बर 2022 दिन सोमवार को मां शैलपुत्री की पूजा होगी।
  • नवरात्री के दूसरे दिन 27 सितम्बर 2022 दिन मंगलवार को मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होगी।
  • नवरात्री के तीसरे दिन 28 सितम्बर 2022 दिन बुधवार को मां चंद्रघंटा पूजा व मां कुष्मांडा की पूजा होगी।
  • नवरात्री के चौथे दिन 29 सितम्बर 2022 दिन वीरवार को मां स्कंदमाता की पूजा होगी।
  • नवरात्री के पांचवे दिन 30 सितम्बर 2022 दिन शक्रवार को मां कात्यायनी जी की पूजा होगी।
  • नवरात्री के छठे दिन 2 अक्टूबर 2022 दिन रविवार को मां कालरात्रि जी की पूजा होगी।
  • नवरात्री के सातवें दिन 3 अक्टूबर 2022 दिन सोमवार को मां महागौरी जी की पूजा होगी।
  • नवरात्री के आठवें दिन 4 अक्टूबर 2022 दिन मंगलवार को मां सिद्धिदात्री जी की पूजा होगी।
  • नवरात्री के नवमीं दिन 5 अक्टूबर 2022 दिन बुधवार को कन्या पूजन, दुर्गा विसर्जन/नवरात्रि व्रत का पारण/विजयादशमी /दशहरा मनाया जायेगा।

Leave a Reply