e-RUPI क्या है और कैसे काम करता है | e-RUPI Kya Hai in Hindi

e-Rupi: काफी समय से भारत सरकार ऑनलाइन डिजिटल पेमेंट (Online Digital Payment) के तरीके को पूरे देश में लागू करने में लगी है। भारत सरकार ने यूपीआई पेमेंट सिस्टम (UPI Payment System) भी बनाया जो कि आज के समय में बहुत पॉपुलर है। केवल एक क्यूआर कोड (QR Code) स्कैन करने से भुगतान किया जा सकता है।

दुनिया में क्रिप्टो करेंसी (Crypto Currency)और डिजिटल करेंसी (Digital Currency) का बोलबाला देख, भारत सरकार ने एक कदम आगे बढ़ाते हुए ई रुपि (e-RUPI) को लॉन्च किया गया है। हमारे देश में बैंक अकाउंट, डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, वॉलेट, यूपीआई पेमेंट सिस्टम पहले से मौजूद हैं तो फिर ई रुपि (e-RUPI) लाने की जरुरत क्यों पड़ी। आइये समझते हैं ई-रुपि (e-RUPI) क्या है।

ई-रुपि (e-RUPI) क्या है (e-RUPI Kya Hai in Hindi)

e-RUPI एक डिजिटल पेमेंट ट्रांसफर सिस्टम (Digital Payment Transfer System) है जिसे DBT भी कहा जाता है; मतलब डायरेक्ट बैंक ट्रांसफर (Direct Bank Transfer)। अभी तक DBT के तहत लाभार्थी (Beneficiary) के बैंक अकाउंट में रूपये ट्रांसफर किये जाते थे। उदाहरण के लिए एलपीजी सिलेंडर पर मिलने वाली सब्सडी, जोकि आपके आपके बैंक अकाउंट में मिलती है।

e-RUPI के तहत आपको बैंक अकाउंट में रूपये ट्रांसफर नहीं किये जाएंगे बल्कि आपको एक ई बाउचर (E-Voucher) या आपके मोबाइल पर क्यूआर कोड  भेज दिया जायेगा। इसमें आपको ना ही बैंक अकाउंट की जरुरत है और ना ही डेबिट, क्रेडिट कार्ड, वॉलेट और UPI की। क्यूआर कोड दिखाओ और आपका काम हो गया। e-RUPI को नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने बनाया है।

e-RUPI कैसे काम करेगा

लाभार्थी को या तो क्यूआर कोड ई बाउचर से दिया जायेगा या तो SMS से लाभार्थी के मोबाइल पर भेजा जायेगा। जिसे लाभार्थी जो सेवा लेगा वहां केवल क्यूआर कोड या SMS दिखा कर काम हो जायेगा। पर ध्यान रहे जिस सेवा के लिए आपको ई रुपि जारी किया है वो वहीँ काम करेगा और कहीं नहीं।

जैंसे आपको 1००० रूपये का e-RUPI जारी किया गया है वैक्सीन लगवाने या सरकारी राशन की दुकान से राशन लाने के लिए तो ये ई-रुपि वहीं खर्च होगा कहीं और नहीं। उदाहरण के लिए, आप लोगो ने अमेज़न (Amazon) या फ्लिपकार्ट (Flipkart) के गिफ्ट वाउचर (Gift Voucher) देखे होंगे। हो सकता है किसी ने आपको दिये होंगे, पर ये गिफ्ट वाउचर उसी कंपनी की वेबसाइट पर यूज़ होते हैं जिस कंपनी के ये हैं। ठीक इसी तरह से e-RUPI भी काम करेगा। अगर वैक्सीन लगाने के लिये इसे जारी किया गया है तो इससे वैक्सीन ही लगेगी अन्यथा ये किसी काम का नहीं रहेगा।

e-RUPI के क्या फायदे हैं?

e-RUPI के सही मायने में कहें तो बहुत फायदे हैं। खासकर सरकारी लोक कल्याण योजनाओं में। सरकार किसी लाभार्थी के बैंक अकाउंट में कुछ रूपये डालती है जिससे वो किसी योजना का लाभ उठा सके लेकिन सरकार को ये पता नहीं होता था कि लाभार्थी ने वो रूपये उसी योजना के लिए प्रयोग किये या कहीं और खर्च कर लिए।

e-RUPI से सरकार जिस योजना के लिये के लिये e-RUPI देगी वो वहीं खर्च हो पायेंगे कहीं और नहीं। जैंसे खाद के लिए मिले पैसो से खाद की ही खरीद होगी, किताबो के लिए मिले पैसो से किताबे ही खरीद पाएंगे, टीके के लिए मिले पैसो से सिर्फ टीका ही लगेगा। इससे रुपयों का और सरकारी योजनाओं का सही से इस्तेमाल हो पायेगा।

e-RUPI कौन जारी करेगा?

e-RUPI एक प्रीपेड ई-वाउचर (Prepaid E-Voucher) है, जिसे नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने तैयार किया है। इसके तहत इसमें सरकारी और प्राइवेट बैंकों को जोड़ा जायेगा। यही बैंक e-RUPI जारी करेंगे। जिस भी योजना के लिए ई-रुपि जारी करना पड़े, इसके लिये सबसे पहले e-RUPI के तहत जुड़े हुए बैंक से संपर्क किया जायेगा और बैंक को लाभार्थी की जानकारी दी जाएगी जैसे कि नाम मोबाइल नंबर इत्यादि। इसके बाद बैंक उस लाभार्थी (Beneficiary) को e-RUPI जारी कर देगा। हो सकता है वो लाभार्थी को ई-वाउचर (E-Voucher) भेजे या SMS करे।

मुख्य रूप से e-RUPI सरकार ही जारी करेगी क्योंकि ज़्यादातर लोक कल्याणकारी योजनाओं में सरकार को लाभार्थी के बैंक अकाउंट में किसी योजना का लाभ उठाने के लिए कुछ रूपये भेजने पड़ते हैं। इसमें गैर सरकारी लोग मतलब आम लोग भी इसका प्रयोग कर सकते हैं। लोगों को भी e-RUPI से जुड़े हुए बैंक से सम्पर्क करना पड़ेगा।

Leave a Reply